About Me

My photo
Dy.Commissiner VII UP SJAB Lucknow (India)

Followers

Monday, January 16, 2012


" गुनाहगार के गले मैं फूल की माला,
गुरेज हमको नहीं गुजारिश किसकी थी ?
शातिरों के सर पे सेहरा हुकूमत की हिमायत थी 
या सियासत की रवायत थी ---- बता ये आज तू मुझको 
जमहूरियत के चेहरे पे ये श्याह भद्दी सी इबारत किसकी थी ?

हुक्मरानों से फैसले के फासले पे फैले हैं हम 

यह सियासत हम से थी फिर रियासत किसकी थी ? 

No comments:

Post a Comment