About Me

My photo
Dy.Commissiner VII UP SJAB Lucknow (India)

Followers

Friday, April 15, 2011

साभार

Murari Sharan Shukla posted in luckhnawi.
मैं उत्पीड़क सत्ता को ललकार रहा हूँ , खूब समझता हूँ मैं खुद ही अपनी मौत पुकार रहा हूँ , मेरे शोणित की लाली से कुछ तो लाल धरा होगी ही , मेरे वर्तन से परिवर्तित कुछ तो परम्परा होगी ही | मैं जो उलटे -सीधे स्वर से गाता रहता करुण कथाएँ, सुनकर अकुलाती ही होगी व्यथितों की चिर मूक व्यथाएँ, मेरे स्वर से कुछ तो मुखरित जगती दुःख भरा होगी ही , मेरे शोणित की लाली से कुछ तो लाल धरा होगी ही || अमर शहीदों के शोणित से रंगी हुई है आज पताका , लहराता मैं चला बदलने इस उत्पीडित जग का खाका , मेरी लोल लहर से प्लावित कुछ तो वसुंधरा होगी ही , मेरी शोणित की लाली से कुछ तो लाल धरा होगी ही , मेरे वर्तन से परिवर्तित कुछ तो परम्परा होगी ही |||
Murari Sharan Shukla14 अप्रैल 13:33
मैं उत्पीड़क सत्ता को ललकार रहा हूँ ,
खूब समझता हूँ मैं खुद ही अपनी मौत पुकार रहा हूँ ,
मेरे शोणित की लाली से कुछ तो लाल धरा होगी ही ,
मेरे वर्तन से परिवर्तित कुछ तो परम्परा होगी ही |
मैं जो उलटे -सीधे स्वर से गाता रहता करुण कथाएँ,
सुनकर अकुलाती ही होगी व्यथितों की चिर मूक व्यथाएँ,
मेरे स्वर से कुछ तो मुखरित जगती दुःख भरा होगी ही ,
मेरे शोणित की लाली से कुछ तो लाल धरा होगी ही ||
अमर शहीदों के शोणित से रंगी हुई है आज पताका ,
लहराता मैं चला बदलने इस उत्पीडित जग का खाका ,
मेरी लोल लहर से प्लावित कुछ तो वसुंधरा होगी ही ,
मेरी शोणित की लाली से कुछ तो लाल धरा होगी ही ,
मेरे वर्तन से परिवर्तित कुछ तो परम्परा होगी ही |||

No comments:

Post a Comment

Blog Archive