About Me

My photo
Dy.Commissiner VII UP SJAB Lucknow (India)

Followers

Sunday, April 3, 2011

Bharat ने आपको एक संदेश भेजा.
Bharat Soni
Bharat SoniApril 4, 2011 at 11:48am
Re: AT Least NOW !! WAKE UP !!
बस इसी बात का डर था................

एक हिन्दुस्तानी होने के नाते मैं भी दिल से येही चाहता था की हिन्दुस्तान ही विश्व कप जीते लेकिन जो डर मुझे पहले था अब वही सामने आ रहा है! भारत का क्रिकेट वर्ल्ड कप जीत लेने के बाद सभी सरकारों ने अपने अपने अंदाज़ में क्रिकेट खिलाडियों पर धन की वर्षा करना शुरू कर दिया! कोई ५-६ एकर्ड जमीन दे रहा है कोई २-३ करोड़ रूपए दे रहा है, कोई मंदिर बनवा रहा है तोह कोई स्टेडियम!!!
ऐसा मैंने तब तोह नहीं देखा था जब कारगिल के युद्ध में हमारे २१- २२ साल के नौजवान शहीद हुए थे, तब तोह तिरंगे में उनकी लाशो को लिपटाया जाता था और भो-पो बजा के सलामी दे दी जाती थी! जो पेट्रोल पम्प उनके परिजनों को दिया जाना था उसके लिए हमारे मंत्रियो ने कैसा नंगा नाच और बन्दर बाट किया वोह सब आपको पता!
सडको पर जो जश्न दिखा वोह तब तोह कहीं नहीं दिखाई दिया था जब हमारे NSG कमांडो ने २६/११ के आतंकियों को कुत्तो की तरह मारके ताज होटल से बहार घसीटे हुए निकाला था! तब तोह केवल एक केंडल मार्च किया और अपने अपने घरो में बंद हो गए थे!
आपमें से मुझे बताये सभी की भारत के विश्व कप जीत लेने से क्या परिवर्तन आया आपके सामाजिक, आर्थिक राजनितिक जीवन में?
क्या आपके बच्चो के स्कुलो ने डोनेसन के नाम पर ली जाने वाली नाजायास वसूली बंद करदी?
क्या पेट्रोल के दाम कम होंगे?
क्या आपको मिलावटी दूध और खाद्य पदार्थों से छुटकारा मिला?
क्या आपके घर की महिलाए घर के बहार सुरक्षित हुई?
जितने भी भाई बहिन बेरोजगार है उनको अब नौकरी मिल जायेगी?
नहीं ना................
तोह यह पागल्पंती क्यों?
हम अपना जोश अपनी हिम्मत वह क्यों नहीं दिखाते जब हमे एक होके भष्ट सरकार का विरोध करना होता है?
क्या देश प्रेम केवल भारतीय क्रिकेट टीम को सपोर्ट देने भर रह गया है????
मीडिया ने देश को इतना पागल बना दिया है क्रिकेट के नाम पर की लोग भारत - पकिस्तान के मैच के टिकेट के लिए अपनी अपनी किडनी बेचने को तैयार हो गए थे लेकिन भष्टाचार के विरुद्ध होने वाली रेली में शामिल होने में उन्हें शर्म आती है!

धोनी ने कप जीता है जाके उसे चाट लो, हो सकता है शायद आपकी सभी समस्या उसी से हल हो जाए!!!!

No comments:

Post a Comment

Blog Archive